थार

2

वागीओ

धा-जन्म-महोत्सव

श्रोर

अवसर' पर प्रकाशित

के

-सू० २०१८ के पुनीत

प॑० वागीश गास्त्री

री कद ; (5 ष् के | हैः हट ] रह बा कट, चिक हे पर *. हि 302. नम लि ना

श्री राधा-जन्म-सहोत्सव बि० सं० २०१८ के पुनीत अवसर पर प्रकाशित

आयात प्रकाशन गृह १०, चौरंगी रोड, कलकत्ता-१३

वा सेशी अप

प्रकाशक छै्‌ 'रामनिवास ढढारिया « | आर्यावर्त प्रकाशन गुह कल्कत्ता-९ ३.

मूल्य, ३) तीन रुपया

प्राप्सि स्थान पं० वागीश जास्ती पत्थरपुरा-बृंदावन (मथुरा) भ्रार्यावत्ते प्रकाशन चुह १०, चौरंगी रोड, कलकत्ता-१३ ०_्... £५४ए, चित्तरंजन एवेन्यू, कलकत्ता - १२. गोपाल ब्रंथालय' १६७, दादीसेठ अग्यारी लेत, बम्बई-२.

नी मुद्रक ज्ञनिन्द्र शर्मा

> जनवाणी प्रिष्टस एण्ड पब्लिशर्स प्राइवेट लिमिटेड, ३६, वाराणसी घोष स्ट्रीट

कलंकत्ता-७ .

श्रीक्षीराधिकायें नम:

श्रीराधा-वरण-वन्दन

थो ब्रह्मरद्रशुकनारदमीष्ममुख्येरालक्षितों सहसा पुरुषस्य तस्य | सद्यो वशीकरणचुर्णमनन्तदक्ति, ते राधिकाचरणरेणुमनुध्मरासि मन्मथ-मन्भय मन भथत जाके सुबसित श्रंग। मुख-पंकज-सकरंद नित. पियत. स्थास-“दुग-सूंग ॥। जाके. अंग-सुगंधभ को. निंत नासा ललचात। तन चाहत नित परसिबों जाको सवुमय गात 3) मधु रसमयि बचनावली सुनित्रे को नित कान। हरि के लालायित रहुत, तजि गुरुता को घाग।। जाके सव॒र प्रसाव को मबु रस चाखन हेंतु। हरि-रसना अकुलात श्रति त्जि दुस्त्यज आुतिनसेतु ॥। जाकी. नव-दुति लखि लजत कोटि-कोदि रवि-चंद। बनदौ तिन -पकल सुच्ि. सुशकद

दी शब्द

पूज्य भी भाईजी (श्री हतुमानप्रसादजी पोह्ञार सम्पादक कल्याण) तथा पुष्य श्री बाबा (स्वामी भी चशघरजी ) के मंगलमय साप्चिध्य तथा उनकी छुपापूर्ण छत्रछ्ाया में विगत १६ वर्षों से प्रतिवर्ष मताये जानेबाले भरी राधा जन्म-भहोत्सव के पुतीप अवसर पर श्री राघा-माधव से सम्बन्धित कुछ-न-कुछ साहित्य प्रकाशित होता ही रहा है। प्रस्तुत ग्रंथ उसी परम्परा को प्रसुत-साला का एक और पुष्प है)

पृज्यपाद' पंडित श्री बागीगजी शास्त्री के प्रस्तुत ग्रंथ की पॉंडलिपि प्रकाशन

के लिये कई बर्द पहले ही तेयार हो यवी धी--पर भेरे ही साधनों की अल्पता तथा अपने निज के प्रभादवत्ञ इसका प्रकाद्नन सरकता चला आया; आज भुसे स्वाभाविक प्रसन्नता है कि श्री राधा-जत्म-सहोत्सव के इस पावन दिन यह भ्रंथ श्रापके हाथों में हैं

पूज्य श्री चिम्भनलालजी गोस्वामी के परिश्मपूर्वेक प्रफ देखने तथा ग्रथ को सांगोपांग बनाने के सुझावों के बावजूद भी इसमें प्रकाइन की चुटियाँ तथा संस्कृत के अंद में प्रशुद्धियाँ रह सफती हैं, इन सारी भूलों का एकमात्र दाधित्व मुझ पर है ओर सुझे झ्ाशा है विद्वाव परठकयण मेरी अ्योग्यता के लिखे क्षमा करते हुए, ऋशुद्धियों की ओर संकेत करने की कृपा करेंगे ताकि हितीय संस्करण के समय उनका प्रिभारजजन किया जा सके

प्रंथ की उपादियता और सरपतता तथा श्री ज्षास्त्रीजी के भवत-हुृदय तथा समन्वयवादी व्यक्तित्व की सहज स्वीकृति, ग्रंथ के अंत में प्रकाशित राधा-भाव के प्रतत्य-्ठपासक तथा मर्मन्न सभ्सान्य सहानुभावों की सम्मतियों में आपको आप्त होमी। मुझे विश्वास है कि रसिक भकतगण अपने दृष्ट की उपराक्तता की इस अनुपमेय सामग्री से अवश्य-ग्रवध्य लाभ्एन्वित होंगे। भेरी तो, भक्त हृदय पाठकों और राघा-भाव के रसिक उपासकों से मुक्त आक्षीर्याद की वविनोत याचता है ताकि रो राधारानी के परभ्-भक्‍तों के पुनीत-चरणों सें बैठ सकते का सुधोग पा सके

१०, चौरंगी रोड

कलकत्तानश३, रामनिवास ढंदारिया

किडिचत्‌ प्रास्ताविकम्‌

मन्दस्मितेरच्युतत्रिसचन्दिनीं मित्येक्षणात्तन्रिखिलाएतिकन्दिनीम्‌ ओनन्‍्दनन्दप्रणयाभिमन्दिनों बन्दामहें ओऔवुषभानूनन्दिनीम्‌ ॥॥ जयन्ति गोविन्दमुखारविन्दे. भरस्वसास्ाघरमसन्दहासा: खचिसे.... चिदानन्दम्य तमोध्नममन्दभिन्‍्दुद्ववमुद्शिरन्तः ।!

विदितचरमेवेतद्‌ भगवद्धक्तिभावितात्मनां चिरंभावुकानां भावुकानां यद- खिलजगदन्तरात्मन: परमात्मन: सर्वलोकमहेश्वरस्य महेश्वरस्य सर्वभूततसुहुद सुहृदो नियन्तुरिन्द्रियाश्वानां मन्तुरतीतानागतवर्तभानोपलक्षितस्य कालस्य, असन्‍्त- कोटि-अह्याण्डोदुम्बरफलमालासमर्लंकृतैकैकरो मक्पस्याप्यधिवृन्दावन-सीममात्रकूप- मण्डूकायमानस्य, बल्‍लवीक्षोमण्डलमण्डनाय महेन्द्रमणिदामायमानस्य, श्रीवुन्दावन- वीथीसंचारसंचरणसमभ्यवितचारुचरणस्य,. भिजाश्रितजनानुसरणस्थाशरणैक- शरणस्य, सर्वाश्रयीभूतामृताव्ययपरब्रह्मणोजपि प्रतिष्ठास्पदस्य, विभोरपि मणज्जुल- बुन्दाटबीनिकुड्जपुज्जेष्वेवाभिव्यडिजितमदनोन्म!दिमाधुर्य -सौन्दय -शालिवनमा लि- कलेवरस्य, वेबरस्य रेवतराजपृष्या:, स्वीकृतप्रेयसीदामबन्धाभिरामोदरस्य दामोदरस्य, सोदरस्य' सुभद्वाया नन्‍्दजायाइव, चन्दिराननेन्दिरामन्दिसयमाण- भद्दोौरस्कस्थ, कस्पापि विमोहनशीलललितलीलस्य, बसुधाप्राणवन्धों:, परमानन्द- सुधासिन्धोनिखिलखलमण्डलनिभ्रहस्य सच्चिदानन्दघनविप्रहस्य' वृन्दारकेन्द्रवुन्द- वस्दितपदा रविन्दस्य भोविन्दस्थ, स्वात्मस्वरूपश्रीराधाराधनपरस्य बरस्य भगवत्ों वृषभानुततन्दिनीसमभिनन्दनस्य,_ तदीयमोहनमहामधुराड्रसज्भसमुपलब्धनिरति- शयानन्दसमृद्धे नेिखिलजनानन्दनस्य नन्दनन्दनस्य, तत्माणवल्लभायाश्च तदभिन्ना- त्मनस्तस्थैब संह्लादिशक्ते:, पर सीमानमुपगतायाः परमानुरक्तेट, निजनखचन्द्र- ज्योत्स्नावितायमानमानातीतनित्यनिरतिशयानन्तपरज्ह्मापरपर्यायानिर्वाच्यचिस्मय- प्रकाशया:, कदापि क्रीडाचड्चलनिजाबचलसभी रणसंजातसभी रणसंस्परोेनापि योगीचददुर्गभगति देवाधिदेवमूर्थन्यतर्म माधवमपि घबन्यातिधन्यतमं विधातुं पार- यन्त्या;, श्रुतेरपि श्रुतिपदवीमनुपगतवत्या:, ब्रह्मादिदेवदुरूहदिव्यादभुतवैभव- समहाया:, निजप्राणनाथप्रणमैकजीवनधनाया निरस्तसाभ्यातिशयसौन्दर्य सौशील्यसौ- कुमायों दाय॑माधुयलावण्यवैदस्ध्यप्रभृतिविविधगु णगणबन्यधन्याया ., स्वकीयसीन्दर्य- सिन्धुतिरस्कृतशतकोटिसतीपजझपकाया:, विदवविमोहनमोहनमोहनैकह॒द्यविद्याया , सततमनो5॑भिरामश्यामसन्दरश्रीकृष्णसम्बन्धसम ध्यमावनि सी मानराशस्समम्प्य्य्पद

दिय्य

(ख)

दाभ्पत्यसमदभतलीलाबविलासोल्लसितरससिन्धुसमुपर्वहणार्थ _तत्संकल्पकल्पितमेवेद निखिल दिव्यमदिव्यं जंगमाजंगमे जगदिह पादविभूतावुपलक्ष्यतेडतितर्रां तितराम्‌ तथा श्रुति:--स वै बैव रेमे तस्मादेकाकी रमते हितीयमैच्छत्‌। से हैतावानास यथा स्त्रीपुमाँ सौ सम्परिष्वक्तों इममेवात्मान द्ेधापातयतू तेत पतिश्व पत्नी चाभवताम्‌ !. .. . . - ततों मनुष्या अजायन्त ।. , . . . : एवमेव यदिद किच सिथुनमा पिपीलिकाम्यस्तत्सवेभसृजत ।' [बृह* उप०)

“ज्रिपादस्थामृ्त दिवि' इति श्रुतिनिदिष्टमभीष्ट॑ परमव्योमवैकुण्ठसाकेत- गोलोकाब्र्िधाभिरभिधीयमानमप्राऊृ्त नित्यं सच्चिदानन्दधनं यदमृत धास जिपाद- विभूतितया व्यपदिदियते, तदषि तयोरेवानादिदम्पत्यों: स्वरूपाव्यतिरिक्तं तदीय- लीलाविलासार्थ तत्संधिनीत्यभिहितशक्तिवभववितानमिव भगवत्या योगमायया- घटितघटनापटीयस्या प्रतिक्षणं सुसज्जीकियमाणं तयोः क्रीडारजुस्थलमेवा- नवरत॑ राजतैतराम्‌ू। नवनवलीलास्थलविशेषप्रादुर्भावतिरोभावनूतननिर्माण- पुरातनपरिवृत्त्यादियुतं॑ तब॒त्यमविकल॑ व्यवहारजातम्पि नित्यप्रेयशोनित्यमनः सकल्पकल्पितं सदुपादानकत्वा भरित्यमेवाभिधीयते धीयते च॒ तथैव हुृदि ध्येयरूपतया भावुकैरिति सर्व निरवद्यमेव

ततश्च सब्चिदानन्दसंदोहदेहयो: श्रीपियाप्रियतमयोर्म द्भुलवपुषो: पादविभुतौ त्रियादविभूतौ थर््किचित्‌ क्वचित्‌ कहिचित्‌ सम्पयते तदशेषमेव तदीयविशेष- मज़ुलविधानानुरूपमिति परम मज़लभेव। लीलाविलसितत्वादेव च॑ तत्र वैषस्यनैर्धुण्णादिदोषोड्भरावनमेव नोपपच्चते कुतत: समाधानम्‌ ॥। ने हिं नाट्कादिणु वैषस्पनैर्धुप्यादिमयव्यवहा राभिनय निरीक्ष्यापि सहृदये स्तत्र दृषणमुद्धाव्यते, प्रत्युताभिनयसाफल्यमालोच्य रस एवास्वायते सुधीभि:। करुणदृष्येष्वश्रुपाता- बनुभावों दुःखत्यण्जकोर्जप झोकस्थायिभावतया करुणारुण॑ रसमेव पोषयति पयवसाने अ्रत एवं सामाजिकानां सम्यव्वमभिनयं सुप्रशसमाना: अभातारों मध्ये मध्ये दुल्दुभिनिविशे्ष तलध्वनि दंध्वन्यन्ते प्रहर्षातिरेकेण

एवमेव ये जगदिदमत्रत्यं व्यवद्वारजातं चाखिलं प्रेयसोलीलाथिलसितमेव' मच्यन्ते ते तु पराभवपरदहेषेशोकै: पराभूयन्ते परम प्रमोदभर चापूरमन्ति मानसे ये लल्वनादिकर्मंवासनावासितत्वान्मलादिमलीमसमनसस्विगुणात्मकस्रायावन्धन- मुपेतास्त एवाहंताममतामूलकरागद्वेषादिदोषै राच्छन्नहृदया: सन्‍्तो हर्षाहर्षप्रकर्षा- दिभिविविवैविकारजातैमूयों भूयोउडमिभूयल्ते तेषामेव इते वैषम्यनैर्धप्ये- नेत्यादिब्रह्मसूत्रोपपादित॑ समाधान संगच्छते। तथा हि प्राणितां पुरातनामि शुभाशुभकर्माप्यनुसुत्यैव त्तेषां सुखदु:खात्मकफलोपभोगव्यवस्थावस्थाप्यते परभे- इबरेण झतों तस्मिन्‌ किडिचदू वैषम्यं नैर्धृष्य वाउप्रोपणीयम्‌ | कल्पान्ते सकल स्यैव प्रलीनत्वात्‌

(थे)

कर्मविभागासम्भवेत कर्मानुसारिणी फलभोगव्यवस्था नोपपद्चत इसि वाच्यमनादि- त्वात्‌ कर्मप्रवाहस्य तस्मान्मज्ुलवषुषों भगवतों निखिलभपि विधान परम- मजू लायैबेति नि३चप्रच मत्वा चेतनइचेतसि सतत संतुध्येदेव

अनाइयनेहसो मायावन्धनमृप्ेत्य प्रार|ब्धपरिणात भोज भोजं भगवतों दूरंभिवाप- तितानां भवसिन्धुनिपत्तितानां प्राणिनां समुद्धाराय मोक्षाय भगवत्सांनिष्यसौख्य- समपलब्धये वा यद्यपि शास्त्रेध्‌ विविधानि साधनधनातनि संचितानि, तथापि तरति शोकमात्मवित्‌' तमेव विदित्वातिमृत्युमेति', ऋते जानान्न मुक्ति: यमेबेष वृगुते तेन लक््यः, मामेव ये प्रपच्चन्ते मायामेतां तरन्ति ते, सर्वधर्मात्‌ परित्यज्यः मामेक॑ शरण ब्रज” इत्यादि नैकविधश्रुतिस्मृतिबचनप्रमाणैरशरण- शरणभगवच्चरणयोरनूसरणं तच्छरणवरणमेव वा श्रेयस्सराणिरिति निश्चीयते, चीयते चैषा प्रपत्तिरेव प्रायेण सचेतर्नैश्वेतन:

भगवति वात्सल्य॑ स्वासित्वं सौशील्मं सौलम्यमिति गुणचतुप्टयं चक्षुगोच्रिरता-

मानीय सोत्साह भगवस्तं प्रपच्यन्ते प्रत्यगात्मान: ज्ञान शक्ति: प्राप्ति: पूर्तिश्चेति चत्वारों गुणा अपि परमात्मन्येव विलसन्ति। भगवत एवाखिलप्रपञचगतावा आपिनामिप्टानिष्टयो: सम्यगज्ञानं तान्यस्य कस्यापि। इष्ट्साधनमनिष्टनिरसन- भपि तदायत्तमेव ततम्नैवाधटितघटनापटीयः:शक्ते: सदझ्भावात्‌। एवावाप्त- समस्तकामत्वात्रत्युपकृतिमनिच्छन्नेवोपकरोति निरघ्तरं निरच्तरायं नरानू। एवं जनवत्सलो भगवान्‌ स्वेषां प्राणिनां हृदयगुहामधिशहोते यत्तों जीवा नान्यबानु- सधातूं भवाट्वीस्वटेयु:। अतोञ्सो समेर्षा सतत प्राप्त एव, परंतु पराह्मुख- त्वान्न प्रभवन्ति ग्राणिसमुदापास्तत्संगमसुखं समास्वादयितुम्‌ प्रपद्यमाना एव आनवा: परमात्मतत्वमनुभवत्ति परमात्मत्येवानुरज्यन्ति विरज्यब्ति चान्यतों यथीकत कविना---

भक्ति: परेश्ानुभवों विरक्तिरत्यत्न वेष तरिक्ष एककाल:।

प्रपद्यमानस्थ बथाइनत: स्पुस्तुष्टि: पुष्िट: क्षुदपायोडनुघासस्‌ ।। इति |)

परमानन्दसुधासिन्धोस्तरज़ू रूपत्वाज्जीवात्मानोडपि परमानन्दस्वरूपा एवं वेद्या:। अतएव ते सुखापरपर्यायमानन्दमेवाधिगत्तुमिच्छन्त्यानन्दमेबोषजीवन्ति च। तथा श्रूति:--एतस्वैवानन्दस्य मानामुपजीवन्ति, परमानन्दसुधासिन्ध रसौ (सो वै सः, विज्ञानमानन्द बअह्य, आनन्दमय: सैषाउबनन्दस्थ सीमा, एप होवा नन्‍्दयति' 'पुरुष एवेद सर्वम इत्यादि श्षुत्या निदिश्यमान:, सच्चचदानन्दधल- पुरुषोत्तमों रसिकशेखर: शऔीकृष्ण एवेति विज्ञायते, रसशाजस्वरूपत्वात्‌ परमानम्द प्रदत्वातच्च तदेव वबित भगवती श्रुति:-यन्मित्रे परमानस्दं पूर्ण बहा समातनभ' फष्णस्तु सगवान्‌ स्वयम दृस्याविना

(घ)

एवस्थैव भगवत: सौन्दर्यमाधु्थसिन्धो: श्रीकृषष्णस्यात्मभूता तत्सारतमस्वरूपा तदान्वादिनी शवितिनिस्सीमसौन्दुरमाधुयंसारसर्वस्वमूति: श्रीमती राबा नामया सतत समाराध्यते प्रेबसा। तथा चोक्‍त राधिकोपनिषदि-- श्रीकृषप्णेनाराध्यत इति राधा ।' श्रीडच ते लक्ष्मीश्च पत्व्यौ, परास्यृ दाक्तिविविवैव श्रूयते इत्यादि- श्रृतयः निरस्तसाम्यातिंशयेन राधसा', अनया55राधितों नूनम्‌' इत्मादिश्वीशुको- क्तयश्च तामेव संस्तुवत्ति निदिशन्ति च। तथा निजात्मभूतया श्रीराधया सह , स्वधामनि ब्रह्मणि ब्रजास्ये निरन्तर रमणादात्माराभ इत्युच्यते इयामसुन्दर एतदेवोच्यते--आत्मा तु राधिका तस्य तबैव रमणादसो। आात्माराम इति' प्रोक्तो रसरीतिविचक्षणरित्यादिना एतयोनित्यनूतनयों रनादिदम्पत्योर्महाभाव- रसराजछूपयो: सेवासौभाग्यसमुपलब्धिरेव परम: पुमर्थोउ्ड्भीक्रियते ! श्रीभानु- नल्दिनीषणयाभिनन्दनमुपेत्यैव नन्‍्दनन्दनों जगदानन्दनों भवितुमहँत्ति

तयोवानाविधा रससंवर्धिनी सथुरतमा लीला नित्यं तिरन्तरं सम्बोभवीति। सा च' श्रवणस्मरणगोचरतामुपेत्य' विस्मृतात्मतां देहिनां स्वरूपसंस्मारणपूर्वक प्रेयोयुगलसेवा, सोभाग्यसम्पादनार्थभेवेति कृपापरवशाश्यामेव प्रेष्ठाभ्यामनवरत- मातन्यते तथा चोकितं कुन्तीदेव्या--

सबेपस्थित्‌ विलश्यमातानामविद्याकामकर्ममिः

शअ्रवणस्मरणाहणि करिष्यश्िति.. केचन ।। इति।

5पृण्बन्ति गायच्ति गृणन््यभोक्णदा: स्मररान्ति ननन्‍्दन्ति तवेहिंतं जना:। त॑ एवं पद्रयन्त्थचिरेण तावर्क भवपग्रवाहोषरमं पदाम्बुजम्‌ ॥। इति ॥॥

सर्वत्रव्यापकावषि लीलारसप्रसाराथ निजानुरक्तगोपाज्ूनाजनानन्दनार्थ चर यत्रेमौ वृषभानुनत्दिनीनल्दनन्दनौ रसिकदम्पती समवतीर्य संक्ीडेते यत्र वा संत्तमेव स्वीये परमे पदे विहृरतस्तदनयोदिव्यदिव्यं धन्यं धाममूर्धन्यं सकलशोकापनोदन गोलोकाह्ुमिह वृल्दावनामिधं धाम कस्य नानमयत्ति मूधाने धौरस्थ श्रुतिरपि श्रावयति सबहुसान॑ बदौयं महिसानमानमनीय महनीयम्‌ तदू विष्णों: परम पदम” इंति। ता वां वास्तृत्युव्मसि' गमध्ये यत्र गावों भ्रिश्वद्धा भ्रयास:। अत्राह तदुरगायस्य वृष्ण: परभ पदमवभाति भूरि इति (ऋणग्वेदे विष्णुसूक्ते) भगवद्‌गुणगणगृणनयेव वाग्वेभवस्य साफल्य॑ स्याद्‌ यत्र भगवान्‌ भगवद्‌गुणा एवं वा नानुवप्यन्ते ता निखिला अपि गिरोउ्तत्या असत्यक्च यभोक्‍त भागवत्ते-- मृषा भिरत्ता असतीरसत्कथा कथ्यते यद्‌ भगवानघोक्षजः तंदेव सत्यं लड़ हैब मंडल तदेव पुण्य भगवद्गुणोदयम्‌ |

एंतदेवालोच्य शओीवृषभानुवन्दिसी चरणारविन्दमण रसिको 'रसिकाचार्यों चागीश

(ड)

श्रीकृष्णसमाराध्याया: शऔीराधाया: करुणापाज्धपड क्तिभि: प्रेरितों भावुकजन- भागरधेयमिव श्रीराधासप्तशतीनामघेय भेक्तिरसनिझे रमिस सद्भ्रन्थरत्तमुपन्‍्य- भाव्सीत्‌। सप्तशतीयं ख्ियः कृपयैव बृहत्सानुशिखरे भावुकस्य कवेरन्तःकरणे प्रचकाशें स्वानुभूतिरेव कविना पूर्वाचार्यवर्यानुमोदितोपन्यस्तेत्युपसंहारे स्म- दर्शि-+- हु स्वानुभूत॒मिद सर्व पर्वाचायंसुसंसतम | सोपपत्तिकसत्रोक्त सुकण्ठ तब ॒प्रींलये ॥॥ इय॑ दुन्दावनेश्वर्या: करुणापाजुपझक्तिसिः वागीझाचारयहदये बृहत्सानो प्रकाशिता।। इंति ।॥॥ सावनैरसाध्या सतत समाराध्या करुणावशंवदा श्रीराघैव शद्प्रन्धस्यास्य मुख्य: प्रतिपाग्वविषय:। श्रीवुन्दारण्यनिवासरूपस्यैव प्रथोजनस्थेह संयोजन- मक्षिलक्ष्यंक्रितते-- राधासप्तशती वृन्दावमवासफलप्रदा इति श्रीराधाचरणार विस्दप्रणयपियासबों गोपीभावभावितात्मानों भुक्तिमुक्तिस्पृह्ापिशाच्यापरमृप्टा, प्रेमप्रदृतचेतनाइचेतता एवात्राधिकारिण: प्रीतिमागविसारिण:। सम्वन्धबन्ध- इचापि सुस्पष्ट एवं समाराध्यसमाराधक्रभावलक्षण: रसिकशेखरयो रनयोरादिप्रेयलो रससाम्राज्ये कर्थ जीवस्य प्रवेश: सम्भदेत ? कीदुशी रसोपासनासरणि: ? काः काइ्चानुभूतयों रसोपासनापदबीमनुसंचरता रसिकालाम्‌ ? कथंकारं परमानन्दरससिन्धू प्रियाप्रियतमी निजाश्रितननमन- गृह्लाते कथ सिद्धिमुपेयुषा भावुकेन निकुण्जलीलारस: समास्वाच्रत इत्यादि- विषयाणामिह सम्यग्‌ विवेचनसवेक्ष्यते ग्रन्थे ईस्मिनू सनातनगोस्वामिपादप्रभीतबृहदुमागवत्तामृतशैलीसनुसृत्य सुकण्ठ- मधुकण्ठसंवादमुखेन सरलसुबोधया प्रसन्नगम्भीरया कोमलकान्तपदावल्या रप्ष- निर्भररचिररचनया सप्तमभिरव्याय॑ रसमार्गीयसाधकादर्शभूत्तस्य विप्रवरवसस्त- देवस्य, साधनसोपानसमारोहणमुपर्वाणतम्‌ _ भ्रथमादारभ्यात्तिमाध्यायपर्यन्त सध्यायानां नामनिर्देशेनेंव तदुगतविषयाणामभशिव्यअजन भवत्येव भावुकानामन्त - करणे। तथेह क्रमेण नामान्युद्धिगरन्त--बहत्सानुपुरप्रवेशों नाम प्रथम , शराधामन्दिरमाघुरी नाम द्वितीय:, ग्रह्दरगम्भीरता नाम तृतीय: राधामन्दिर-. महाप्रसादी ताम चतुर्थ:, श्रीवुन्दावनविरहवेदता वाम पञ्चमः, निकुृछ्जलौना- रसप्रवेशों भाम' षष्ठ:, श्रीविकुज्जलीलारसास्वादों नाम सप्तमशच। प्रारम्भत: पजञ्चस्वध्यायेपु वसस्तदेवस्थ झने: शने: सावनसमुन्नते: अम: सलक्ष्यते षष्ठे तूज्ज्वलनीलमणिप्रभृत्तिससरीतिनिरूपकर््नस्थसरणिमनुसत्य स्व. कीयया प्रौढरचतया रसभावानुभावसंचारिभावरतिप्रैमस्नेहमानप्रणयरागानुराग विहितम्‌ प्राण

(च)

स्वरूप: सिद्धिमुपेयुषी भावुकस्य पत्यक्षीभूतनिकुझजलीलाया संः् संस्थोषकनिजानुभवोदूगा रसमर्थक: परमसुन्दर: श्रवणाध्ययनमनो रम इयमिदानी मतिमता सम्मूखीना हादिकान्‌ भावानुद्गिरन्ती श्री मदाच सप्तशती विविच्य समालोचनीया सहृदय: नैतदरतिरिच्यते चेद्‌ फिचित्‌ू--वृन्दावने राधास्वरूपस्थितिवर्णन॑ यथा षष्ठे-- शक्तिस्वरूपा सा राधा हछुादिनी परमेदवरी। स्वतस्तथा सर्वेमर्धन्या रसदा रसिकेदवरी ॥॥ बुन्दावने कृष्णसेव्यां क्ृष्णप्राणां रसेश्वरीम्‌ एतामुपासते... सर्वे... तुणगुल्मलतादंयः पलाझ्ञा्ककरी राय राधें राधे रठन्ति ताम्‌। छुद्राब्दराचर। जीवा: सखे किमुत मानव: !)

बुन्दावनस्वरूप यथा तत्रैब॑-- बस्तुत:.. प्रेयसोप्रेष्ठपेमसृत्तरसात्नकस्‌ वृन्दावनस्वरूपं हि.£ विज्ञेय॑ रसिकर््रियम ।॥।

मानविपयां अआान्तथारणां निराकुर्बत: कवेरियमुक्तिभुशमादरणं केचिदक्ञासिनों मानसभिसान सु प्राइतम्‌। मन्यन्ते तामसे भाव॑ं तेन दरधों रसो भवेत्‌ |! जहुर्गुणमर्थ देहभिति. वेबासकेगिरा नर्गुण्यं रासलीलाया हरेरिति सुनिश्चितम्‌ ॥। दर्भेदर्याभिमानाथा सम्पदेषा मता$सुरी। श्रीकृष्णरासली लाया संनिर्विष्या कं भर्षेत्‌

सिद्धावस्थायामतुमवपथमवरतीए ये लीलारसतरज्धा सरसपदावस्थामुपतनिवद्धास्ते स्वानुभवैकगस्या: अियः करुणयैवास्व सवतरल्तीति' सहृदया: शियोग्नुरामिण एवं संविदन्ति | दिशा समुदृधियन्ते-- भनोहरिणवागुरां. नयनमीनजालाबुता कलिस्दततयातटीमपि नवीनलीलास्थलीमस विदेद्धनिशि साहुसं कुर गस्तुमचेति त॑ कवएलिसुतिधायया तंव तयासि राजे प्रियम धन्येयं सरसमधुराभिसूतिभाषा यत्र निषेधो४पि विधावेव पर्य वस्य ह्यत्ताम्‌

(छ)

पाणिदन्द्रमूणालमभास्यकमलें कंदर्पेलीलाजलं श्रोणीघट्ठशिला. व. नेत्रशफरीकेशौघशवालक्म्‌ वक्षोजासलवकऋवाकथुगल॑ राधासरः इरितलें नित्य स्‍्नाहि हरे स्मशग्निशमर्त भाग्येत लब्ध त्वया। लुप्तं ते तिलक सतने सलयजो धौत॑ नेन्राञजनं हे रामोडपि स्खलितः कर्थ त्वदधरे ताम्बूलसम्पादितः कस्त्रीमकरीविच्तित्ररचना तष्ठा कथं गण्डयो: स्तात्व! ब्यामसरोवरे सखि समायाततास्मि कि कुप्यति भाग्यन श्री राधासंदर्श नसुधा रसं पिबतो भावुकस्यायसुद्मार: कियान्‌ मनोहरः दीयतासमबधानमत्र- घैयँ धारय चित्त नाधिकमतों हे काम मां पीडय अतंमृझ्च दृशौं निमेष विरमाद्याश्नुप्रवाह क्षणम्‌। राधाधश्चर्यमयी...._ महारससुधामाघुर्यध्षारावहा सेय,. लोचतगोचरीभमवति में भाग्येत्त भाग्येदवरी ॥। एवंविधै: सुधासोदरसरसमधुरहद्यपद्य रत्नै: संचितेयं सप्तशती केषां सचेतसां ने चेतांसि हरति मनोहारिणी दब्दार्थोभयालंकारसमलंकृतसघटनाविशेषात्‌ बय तु ब्रूमो$स्याः सप्तशत्या अ्हों प्रौढिपरिपाक: ! अहो गाम्भीर्यम्‌ ! किख्याहों गीस्तरज्भमड्री किमघिकेन प्रतिपदमेतस्या: साहित्यसारसंचयैश्चिरं चेत- इचमत्कुकशत इति भावुकजनमानसप्रत्यक्षेकसाक्षिकम्‌। सतत सभास्वायतामयं महाकाव्यसाधुरीमुपदधानो प्रस्थोषधिकारिभि: श्रीराधागुणश्रवणरसिके: सहुद- यैरिति सादर समनुरुन्थाता वयं पद्मेतानेन कविमशितन्दयाभ:-- ग्राराधितश्रीवृषभानु कन्ये राधायशज्योवर्णनघन्यधन्पे भन्‍्ये त्वणि श्रीकृपयेत सार्था वागीश वायीइवरता कइृतार्था

इति शुभम्‌ ॥|

श्रीक्षी राधिकायें नम:

नग्न निवेदन

श्रीराधा कौत हूँ ? श्रीराधाका अस्तित्व सत्य है राधाका स्वरूप नित्य अनादि अ्रवन्त एकरस है या साधन जगत उसका उत्तरोत्तर विकास हुआ है? श्रीराधा श्रीक्षप्णके साथ क्या सम्बन्ध है, राधा उनकी परिणीता श्रीराधा विलासप्रिय-- [जैसा कि बहुतसे कवियोंने उन स्वच्छन्द रमणी हूँ या साधन-जगंत॒की झादर्श परम त्यार क्या-क्या गुण हैं और उनकी कैसी क्या-क्या लीलाएँ है " प्रशतोंका उत्तर देनेकी मुझमें योग्यता है, शक्ति है, झौर ने आवश्यकता ही है। न्लीराधाजीके अनन्त रूप उनके स्वृरूपभूत भाव-समुद्रमें अनन्त विचित्र तसंगें उठ विभिन्न दृष्टियोंसे विभिन्न लोगोंने देखा है, अतएवं उन कहा जा सकता है कि जो उन्हें जिस भावसे जानना चाहते सकते हूँ

(झा)

मुझे तो प्रेमी संत-महात्माश्रोंके मतानुसार यही जान पड़ता है कि एकमात्र सच्चिदानन्दधनविग्रह भगवान्‌ श्रीकृष्ण ही विभिन्न दिव्य रूपोंमे लीलायमान हैं बहू एक ही परमतत्व श्रीकृष्ण श्रीराधा और अनन्त गोपीजनोके रूपसें दिव्यतम मधुरतम स्वरूपभूत लीला-रसका आस्वादन करता रहता है। इस आस्वादनमें बस्तुतः आस्वादक तथा आस्वाधका[ कोई भेद नहीं है। परम तत्व श्रीकृष्ण तिदपम निरुपाधि सत्‌, चित, आनन्दपन हैं; सत्‌ संधिनी, चित्‌ चिति”' और ग्रानुन्द ल्लादिनी' शक्ति हैं। ये 'ह्वादिनी' शक्ति स्वयं श्षीराधा' है, संधिनी' वृन्दावन बनी हैं और जिति' समस्त लीलाओंकी व्यवस्थापिका तथा आयोजिका थोगमाया' हैं। श्रीराधा ही लीलाविहारके लिये भ्रवत्त कायव्यूहरूपा गौपाडु- नाओ्रोंके रूपमें प्रकट हैं। भगवान्‌ श्रीकृष्ण एकमात्र रस हैं और उत्त दिव्य मधुरातिमधु रसका ही यह सारा विस्तार है भगवात्‌ और भगवान्‌की शक्ति-- यही' वस्तुत: रस-तत्त्व हैं; अन्य समस्त रस' तो विरस (विपरीत रस) कुरस (कुत्सित रस) और अरस (रसहीत ) रूपसे पतनकारी हैँ भ्रतएव सच्चिदानन्द- विग्रह परम रस रसराज श्रीकृष्णमें और सब्चिदानन्दविग्रहा आवन्दांशधनी भूला, आनन्द-चिस्मय-रस-प्रतिभाविता रसमयी श्रीराघामें तत्वतः कुछ भी अन्तर नहीं है। नित्य एक ही, नित्य दो बने हुए लीला-रसका वितरण तथा आस्वादन करते रहते हैं। परन्तु भगंवानकी केवल मधुरतम लीलाओंका ही नहीं, उनकी लीला- मात्राका ही तत्वत: एकमात्र आधार उनका परम शक्ति---राधारूप ही है शक्ति- से ही शवितमान्‌की सत्ता है श्नौर शक्ति रहती है शक्तिमानमे ही अतः अनादि, सर्वादि, सर्वकारणकारण, अद्गय ज्ञान-तत्वकप सच्चिदानन्दघत ब्रजरसनिधि इयामसुन्दर श्रीकृष्णचन्र श्रौर उनकी ह्लादिनी शक्ति श्रीराधाजीका परस्पर अभिन्न तथा झविनाभाव नित्य अविच्छेद तथा ऐक्य-संबन्ध है। शरीराधा पूर्ण शवित हँ--श्री कृष्ण पूर्ण शक्तिमान्‌ हैं; श्रीराधा दाहिका शक्ति हूँ,---श्री कृष्ण साक्षात्‌ अग्नि हैँ; श्रीराधा प्रकाश हँ--अश्रीकृषष्ण भुवन-भास्कर है; श्रीराधा ज्योत्स्ता हैं--श्रीकृष्ण पूर्ण चन्द्र है। इस प्रकार दोनों नित्य एक-स्वरूप हैं। एक होते हुए ही श्रीराधा समस्त क्ृष्णकान्ताओंकी शिरोमणि ह्लादिनी शक्ति हैं। वे स्वभन-मोहन-सनोमोहिनी हैं, भुवनमोहन-मनोमोहिनी हैँ, मदत-मोहन- मनोमोहिनी हैं। वे पूर्णचन्द्र श्रीकृष्णचन्द्रके परणतम विकासकी आधारमूर्ति हैं और वे हैं अपने विचित्र विभिन्न भावतरंग-रूप भ्रत॒न्‍्त सुख-समुद्रमें श्रीकृष्णको नित्य निमभ्त रखनेवाली महाशक्ति ऐसी इन राधाकी महिमा राधघाभावद्युति- सुवलित-तनु श्रीकृष्णचन्द्रके भतिरिकत भर कौन कह सकता है ? पर वे भी नहीं कह सकते; क्योकि राधागुण-स्मृति मात्रसे ही वे इतने विद्लल तथा मृग्ध, गदुगद्‌- कठ हो जाते हैं कि उनके हारा शब्दोच्चारण ही संभव नहीं होता !

(व)

इन्हीं श्षीर्यामसुन्दरकी एकांत आराधिका एवं गश्म आराध्या श्रीसक्षाकी'

मधुरतभ दिव्यतम निकुश्जविहार-लीलाका बड़ा ही सुल्त्रित वर्णन सुबोध संस्कृत पद्मोंमें श्रीराधासप्तशती में किया गया है और साथ ही इस' परम साध्य तक पहुँचनेके सुन्दर सरल साधन भी इसमें बतलाये गये हैं। इस परम पअतुकम्पाके लिये इस मार्गपर आरूढ़ सभीको पृज्य श्वीशास्त्रीजीका' कृतज्ञ हीना चाहिये में तो रसशास्त्से स्वेधा अनभिन्न, नितान्‍्त अज्ञ हैँ। इसलिये रस-शास्त्रकी दुष्टिस कुछ भी कहना मेरे लिये सर्वथा अनधिकार चेष्टा है। अतः इस विषयफर कुछ भी कहकर जिनका दिव्यातिदिव्य पद-रण-कण ही मेरा परम आश्रय है, उन श्षीराधाजीके सम्बन्धमें कुछ शब्द उनकी कृपासे लिख रहा हैं। जिस श्री राधा- जीकी अ्रयाचित कृपासे मुझे उतका जो कुछ परिचय मिला है और जिल्होंने अपने महान अनुग्रहंदानसे मुझ पतित पामरकों भ्रपनाकर कृतार्थ किया है; वे अपनी अचित्त्य महिमामें स्थित श्रीराधाजी तो विलासमयीरभणी हैं, उतका उत्तरोत्तर ऋ्मविकास हुआ है, वे कविहृदय-प्रसृत कल्पना हैं, और उनमे क्रिसी प्रकारका गृुण-रूप-सौन्दर्याभिमान ही है। वे नित्य सत्य एकमात्र अपने प्रियतम श्रीश्यामसुन्दरकी सुखविधाता हैं। वे इतनी त्यागभयी हैं, इतनी मधुर-स्वभावा है कि भ्रचिन्त्यानस्त गुण-गणकी अनन्त आकर होकर भी अपनेको प्रियतम श्रीकृष्णकी श्रपेक्षासे सर्वथा सदृगुण-हीन अनुभव करती हैं, बे परिपूर्ण प्रेमप्रतिमा होवेपर भी अपने में प्रेमका सर्वथा अभाव देखती हैं; वे समस्त सौन्दर्यकी एकमात्र निधि होनेपर भी अपनेकों सौन्दयरहित्त मानती हैं और पवित्रतम सहज सरलता उनके स्वभावकी सहज वस्तु होनेपर भी वे भपनेमें कुटिलता तथा दम्मके दर्शन करती और भश्रपनेकों धिवकार देती है। वे श्पनी एक प्रन्तर्ध सखीसे कहती हं---

सखी रो! हों झवगुव की खान

तन गोरी, शत कारों भारी, पत्तक पुूरन प्रान

नहीं त्याग रंबक सो भ्रतमें भरथों अमित अभिमात |

नहीं प्रेम को लेस, रहत नित निज थुख को हो ध्यात ॥|

जग के दु.ख-्रभाव सतावें, हो मन पौड़ा-भान।

तब ठेहि दुख दृध खबे अश्ुजल, नाँह कछु प्रेम-निदास

तिथ दुख-अंसुबन को दिखराबों हों सुच्ति प्रेम महान।

करों कपट, हिय-भाव दुरावों, रच्यों स्वॉय सन्‍्झ्ान ॥॥

है है हा भोरे सम प्ियतम, बिमुस्ण छल करें बिसल गुन-गान। अतितलय प्रेघ्न सराहें. मोकूं परम प्रेमिका भान॥।

(४) तुम हूँ सब सिलि करो त्रसंसा, तब हों भरों गुनान करों अनेक छुद्य तेहि छिन हाँ, रकों प्रपंच-बित्तान ।॥। स्पा सरल-चित ठगयों दिवसनिसि, हों कट्टि बिबिध विधान धृग्‌ जीवन मेरों यह कलुषित धुग यह सिथ्या सान।)

इस प्रकार श्रीराधाजी अपनेको सदा-सर्वदा सर्वधा हीन-मजलिन' मानती हैं; अपनेमें त्रुटि देखती हैं/--परम युन्दर गुणसौन्दयंनिधि श्यामसुन्दरकी प्रेयसी होनेंकी श्रयोग्यताका अनुभव करती है एवं पदपदपर तथा पल-पलसें प्रियतमके प्रेमकी प्रशंसा तथा उनके भोलेपनपर दु:ख प्रकट करती हे। श्यामसुन्दरके मथुरा पधार जानेपर वे एकबार कहती हैं---

ष्ड

सदगुणहीन, रूप-सुषमासे रहित, दोषकी में थी खान। मोह॒बिवश मोहनकों होता, मुझमें सुन्दरताका भान | न्यौछावर रहते मुझपर, सर्वस्व स-मुद' कर मुझको दान! कहते थकते नहीं कभी--- प्राणेह्वारि ! 'हुदयेइबरि ! ! भतिमान 'प्रियतम ! छोड़ो इस भ्रमको तुम'--बारबार में समझती | नहीं सामते, उर भरते, में कण्ठहहार उनको पाती ।। गुण-सुन्दरतारहित, प्रेमधन-दीन, . कला-चतुराई हीन। मूर्ला, मुखरा, भान-सद-भरी सिथ्या, में श्रतिमंद सलीन।। रॉ ह् गैक मर रहता श्रति संताप सुझे प्रियतमका देख बढ़ा व्यामोह। देव मनाया करतो में, प्रभु! हरलें सत्वर उनका मोह ॥।

श्रीराधाके गुण-सौन्दर्यसे नित्य मुख्य प्रियतम इ्यामसुन्दर यदि कभी प्रियतमा श्रीराधाके प्रेमकी तनिक भी प्रशंसा करने लगते, उनके प्रति अपनी प्रेम-कृतज्ञताका एक शब्द भी उच्चारण कर बेठते, अथवा उनके दिव्य प्रेमका पात्र बननेमें अपने सोभाग्य-सुखका तबिक-सा संकेतभी कर जाते, तो श्रीराधाजी अत्यन्त संकोचमें पडकर लज्जाके मारे गड़-सी जातीं। एकबार उन्होंने श्यामसुन्दरसे रोते-- रोते कहा--- तुमसे सदा लिया ही मेने, लेती लेती थकी नहीं अमित प्रेम-सौभगग्य मिला, पर में कुछ भी दे सकी. नहीं ॥। मेरी अ्रूटि, मेरे दोषोंको तुमने देखा नहीं कभी दिया सदा, देते थके तुस. दे डाला निज प्यार सभो।।

(5)

तब भी कहुते---दे सका से तुमको कुछ भी, हे प्यारी ! तुम-सी शील-गुणवती तुम हो, में तुम पर हूँ बलिहारी बया में कहूँ प्रणण-प्रियतमसे, देख लजाती अपनी ओर परी हर करनीमें ही तुम प्रेम देखते नत्वकिशोर !।

श्रीराधाजीका जीवन प्रियंतम-सुखमय है। वे केश सँबारती है, वेणीमें फूल गूंथती हैं, मालतीकी माला पहनती हैं, वेश-भूषा, साजश्रृंगार करती हैं, पर अपनेको सुखी करनेके लिये नहीं; वे सुस्वादु पदार्थोका भोजन-पान करती है परन्तु जीमके स्वाद या अपने शरीरकी पृष्टिके लिये नहीं; वे दिव्य गन्धका सेवन करती हैं पर स्वयं उससे आनन्दलाभ करनेके लिये नहीं; वे सुच्दर पदार्थोका निरीक्षण करती हे, पर अपने नेत्रोंको तृप्त करनेके लिये नहीं; वें मधुर-सधुर संगीत-ध्वतति सुदती हैं, पर अपने कानोंकों सुख पहुँचानेके लिये नहीं; वे सुख- स्पर्श प्राप्त करती है, पर अपने त्वगेन्द्रियकी प्रसन्नताके लिये नहीं। वे चलती- फिरती हैं, स़्ोती-जगती हैं, सब व्यवहार-वर्ताव करती हैं, पर अपने लिये नहीं, वे जीवनधारण भी अपने लिये नही करतीं वे यह सब कुछ करती हैं---कैवल और केवल अपने परम प्रियतम श्रीकृष्णकों सुख पहुँचानेके लिये ! बस्तुतः वे सदा सर्वदा यही अनुभव करती हैं कि उनके समस्त मन-इन्द्रिय,

उनके समस्त अंग-अवयव, उनके चित्त-बुद्धि, उतका चेतन आत्मा--सभीको श्रीकृष्ण अपने मित्यनिरल्तर सुख-संस्पर्श दानमें ही संलग्न बनाये रखते हैं, अन्य किसीका भी वे कभी संकल्प भी करें, इसके लिये तनिकसा अवकाश नहीं देते या क्षणभरके लिये किसी अंगकी वैसी स्व-संस्पर्श रहित स्थित्ति ही नहीं होने देते श्रीराधाजी अभ्रपती परिस्थिति बतलाती हैं---

ख्रवसलि भारि निज गिरा मनोहर मधु सुरलो को तान।

सुनत दें कछ ओर सबद, नित' बहुरे कौन्हें कान

लिपटो रहै सदा तन सो मस रहंचयो कछु बिबधान।

अन्य परस की घुधि मे रहो कछ, भयो चित इकताव १॥

प्रेखियन की पुतरिन में मेरे निसिदिन रहो समाथ।

देखन दे और कछू कबहूँ एके रूप रमायथ।।

रतसता बनी नित्य नव रखसिका चाखत चारु प्रसाद।

मिटे सकल परलोक-लोक के खाठें मीठे स्वाद ध)

अंग सुर्यंव नासिका राची 'घ्रिटी सकल सधु बास।

भई अमत्त गई अम-जग की सकल सुवास-कुबास ।।

(ड)

मत में भरि दीन्हीं मोहन निज सुनि-भोहनि सुसकाम ) चित्त करचो चिंतन' रत चिन्मय चारु चरन छंबिमान ।। _बई डुबाय बुद्धि रस-सागर उछरतन- को माह बात। आम भिल्यों चेतत में भोहन भयों एक संघात 9)

अतएव श्रीराषाके शंगार-रसमें तथा जागतिक शूंगारमें नामोकी समताके - भ्तिरिक्त किसी भी अंशमे, कहीं भी, कुछ भी तुलना ही नहीं है। तस्वतः और स्वरूपत: दोनों परस्पर सर्वथा विपरीत, भिन्न तथा विषम वस्तु है। लौकिक आंगार होता है--काममूलक, कामकी प्रेरणासे लिभित ! इन्द्रिय-तृप्तिकी स्थल या सुक्ष्म कामना-बासना ही उसमे प्रधान हेतु होती है। सावारण मायक-नायिकाके शुंगार-रसकी तो वात ही नही करनी चाहिये, उच्चसे उच्चतर पूर्णताकों पहुँचा हुआ दाम्पत्य-प्रेमका श्रृंगार भी झहंकारमूलक सुतरां कामप्रेरित होता है, वह स्वार्यपरक होता है, उसमें निज युखकी कामना रहती है। इसीसे इसमें श्रौर उसमें उतना ही अन्तर है, जितना प्रकाश और अन्धकारमें होता है। यह विशुद्ध प्रेम है और वह काम है। मनुष्यके श्राँख ने होने पर तो वह केवल दृध्टिशक्तिसे ही हीन श्रन्धा होता है, परन्तु काम वो सारे विवेककी ही नष्ट कर देता हैं। इसीसे कहा गया है--काम श्रच्धतम, प्रेम निर्मल भास्कर” काम अन्धतम है, प्रेम निर्मेल सूबे है। इस काम तथा प्रेमके भेंदकों भगवान्‌ श्रीराधा-भाधवकी कंपासे उसके विरले प्रेमी भक्त बैसे ही जानते है, जैसे अवृभवी रत्व-व्यापारी--जौहरी कांच तथा शअ्रसली हीरेकों पहचानते और उनका मूल्य जानते हैं। काम था काममूलक श्रृंगार इतनी भयावक वस्तु है कि वह केवल केल्याण-साधनसे ही नहीं शिराता, सर्वताश कर डालता है। कामकी दृष्टि रहती है अबः इन्द्रियोंकी तृप्तिको ओर, एवं प्रेमका लक्ष्य रहता है--उध्वेतव स्वानिरदस्वरूप भगवानके आनव्दविधानकी ओर। कामसे अंब:पात होता है, प्रेमसे दिव्यातिदिब्य भगवदू-रसका दुर्लभ आस्वादन प्राप्त होदा है। कामके प्रभावसे विद्वानूकी विद्वता, बुद्धिधानुकी बुद्धि, त्यागीका त्याग, संयमीका रंयम, तपस्वीकी तपस्या, साधुकी साधु, विरक्‍्तका वैराग्य, धर्मात्माका धर्म और ज्ञानीका ज्ञान--वातकी वत्में सष्ट हो जाता है। इसीसे बड़े-बड़े विद्वान मी राबाप्रेम' के वामपर, उज्ज्वल शूंगाररसके नामपर पापाचारमे प्रवृत्त होजाले हैं और अपनी विद्वताका दुरुपयोग करके लोगोंमे पापका प्रसार करने लगते हूँ! अंतएव जहाँ भी लौकिक दृष्टि है, भौतिक अंगर-प्रत्यंगोंकी स्मृत्ति है, उनके सुख-साधनकी कल्पना है, दरद्रिय मोगोंमें सुखकों भावना है वहाँ इस दिव्य

(ढ़)

ज्यूगार-रसके अनुशीलनका तनिक भी अधिकार नहीं है। रति, प्रणय, स्नेह, मान, राग, अनुराग भ्ौौर भावके उच्च स्तरोंपर पहुँची हुई श्रीगोपाज़नाओमें सर्वोच्च महाभाव' रूपा श्रीयुधाकी काम-जगत्से वैसे ही सम्बन्ध--लैश-कल्पना नहीं है, जैसे सूर्यके प्रचण्ड प्रकाशमें भ्रन्धकारकी कल्पना नहीं है। इस रहस्य- तत्वकों भलीभॉति समझकर इसी पवित्र भावृसे जो इस राधामाधवके श्ुंगारका अनुशीलन करते हैं, वे ही बास्तवसें योग्य अधिकारका उपयोग करते हैं। नहीं तो, यह निश्चित समझना चाहिये कि जो लोग कामसूलक वृत्तिको रखते हुए इस श्यृगार-रसके क्षेत्रमें प्रवेश करेंगे, उतकी वही दुर्देशा होगी, जो मधुरताके लोभसे हलाहल विषपान करनेवालेकी, या शीतलता प्राप्त करनेकी अभिलाषासे' प्रचण्ड अग्निकुण्डमें उतरवेवालेंकी होती है!

यह स्मरण रखना चाहिये कि योग्य अ्रधिकारी ही इस श्रीराधारानीके दिव्य श्ुगार-राज्यमें प्रवेश कर सकते हैं। इस दिव्य प्रेमजगतमें प्रवेश करते ही एक ऐसे अनिवंचतीय परम दुर्लभ विलक्षण दिव्य चिदानन्दमय रसकी उपलब्धि होती है कि उससे समस्त विषय-व्यामोह तो सदाके लिये मिथ ही जाता है, दुर्लभसे दुनंभ दिव्य देवभोगोंके आनन्दसे ही नहीं, परम तथा चरम वाञ्छनीय ब्रह्मानन्दसे भी अ्रुचिं होजाती है। श्रीराधामाधव ही उसके सर्वस्व होकर उसमें बस जाते है और उसको अपना स्वेच्छा-सञ्चालित लीलायस्त बनाकर धन्य कर देते है !

ज्ञानवुद्ध, वयोवुद्ध, परम विद्वान, सफल कवि, रसशाास्त्रके महान्‌ पण्डित, जिर-वृत्दावतवासका सौभाग्यप्राप्त किये हुए पूज्यपाद पण्डित श्री वागीशजी शास्त्री महाराजने मुझकी अपने इस श्रीराधासप्तशती' ग्रन्थकी भूमिका लिखनेका प्रादेश दिया ; उनके गआाज्नापालनार्थ मैने यह निवेदन लिखनेकी धृष्ठता की है वास्तवमें मेरे जेंसे नगण्य जन्तुका श्रीराधाके सम्बन्धर्में कुछ भी लिखने जाना अपनी अज्ञताका परिचय देनेके साथ ही विद्वान्‌ लेखकका भी सम्धान बढ़ाना नहीं है, यद्यपि वे अपने स्वभाववश्ञ प्रसन्न ही होंगे। बेसे ही, श्रीराधारानीका भी यह तिरस्कार ही है। पर इस तिरस्कारके लिये तो बे स्वयं ही दायी है; क्योंकि उन्हींकी भ्रन्त:प्रेरणासे यह लिखा गया है सबके चरणोंमें सादर प्रणाम

दीन हीन तुच्छातितुच्छ हनुमानप्रसाद पोहार सम्पादक, कल्याण'

॥| ।पह

5 888॥5॥॥॥/

की

40% ज्यी

कि

श्रीराबा सर्वेदवरी विजयते

प्रस्तावना

श्रीमहामाहिम परमपावन सद्भलमूरि मद्भजलायतन श्रीभगवानकी पादविभूति और त्रियादविभूतिमें जो कुछ हो रहा है, वह सब श्रीभगवान्‌के मज्भुलमय विधानके अनुसार सर्वेधा मद्ध लमय है। परंतु इस दीन-हीन महामलिन पापपीन भायाधीन अज्ञानी जीवको श्रीभगवान्‌के परम पावन सद्भुलमय विधानमें विषमता-निर्दयतता झादि दोष प्रतीत होते हैं, यद्यवि श्रीभगवानमें उदत दोष कभी नहीं हैं; क्‍योंकि प्राणियोंके पूर्वक्ृत कर्मोके अनुसार ही श्रीमगवान्‌ उनके फल आदिकी व्यवस्था करते हूँ। ब्रह्मसुब॒कार श्रीवेदग्यासका कथन है--- फलमत उत्पत्ते:” “वैषम्पनै- घृण्येन सापेक्षत्वात्‌ ।” (२।११३४) यदि कहो कि 'महाप्रलगससें तो कर्म-विभाग रहता ही नहीं, तो यह वात नहीं है। अनादि कालसे कर्म-प्रवाह प्रवाहित है। महाप्रलयमें उसका रूप अव्यक्त हो जाता है, बीजरूपसे कर्म रहते हैं।

“न कर्माविभागादित्ति चेन्नानादित्वात्‌।/ (२।१॥३५)

चेतनकों श्रीभमगवान्‌के सभी विधानोंसे संतुष्ट रहना चाहिये। श्रीभगवान्‌- की ओरसे इस चेतनके झनिष्टकों सम्भावनाका कभी कोई भी कारण नहीं है। यदि कोई है तो अनादि माया-वन्धन ही कारण है। इसीसे यह चेतन सदा तजितापसंतप्त रहता है. मायाके रज-तम-सत्त्वत इन तौनों गुणोसि वद्ध

(त)

जोवोंकों मकत करनेके लिये परम कारुणिक वेदोंने विभिन्न प्रकारके साधन कर्म- ज्ञान-उपासता आदि उपायोंका विधान किया है-- त्रैगुण्यविषया बेदा ।” सर्वोत्तम उपाय श्रीभगवान्‌की ज्ञानपुर्वेक की हुई उपासना और उनके श्रीचरणोंकी प्रपत्ति है। तिरति शोकमात्मवित्‌” “"तमेव विदित्वातिमृत्यु, मेति” “ऋते ज्ञानाश्न- मुक्ति:”, “मामेव ये प्रपबनन्ले मायामेर्ता तरन्ति ते! “सर्वर्मान्‌ परित्यज्य ममेक शरण ब्रज” इत्यादि श्रनेक श्रुति-स्मृति-प्रोक्‍्त प्रमाणोंसे अशरणशरण ओमभगवच्चरणों को ही शरण रूपमें वरण करना सर्वथा श्रेयस्कर सिद्ध होता है। श्रीमगवानमें आश्रयण-सौकर्यापादक और श्राश्चित-कार्यापादक सकल हेयप्रत्यनीक दिव्य कल्याण गृणगणोंकी पूर्णता हैं। १. वात्सल्य, २. स्वामित्व, ३. सौशील्य आऔर ४. सौलम्य--इन चार गणोंकों श्रीभगवान्‌में देखकर झाश्रयणकर्ता असंदिग्ध और असंकुचित होकर श्रीचरणोंकी शरणवरण करनेमें उत्साहपूर्वक प्रवृत्त हो जाता है। तथा १. ज्ञान, २. शक्ति, ३. पूति और ४. प्राप्ति--भगवानके ये चार गृण जीवको भवसागरसे पार करने और उसके मनोरथ पूर्ण करनेमें परम' उपयोगी हैं। जीवके इष्ट-अनिप्टका यथार्थ ज्ञान श्रीभगवान्‌को ही है, अन्य' किसीको नहीं। इण्ट साधन और अनिष्ट निवारण श्रीभगवान्‌ ही कर सकते हैं; क्योंकि अधटित-घटना-पटीयसी शक्षित उन्हीमें है। श्रीभगवान्‌ अ्रवाष्त- समस्त-काम हैं, उनमें पृत्ति-पूर्णता है, उन्हें किसी प्रकारका अभाव नहीं; अत वे जीवका कार्य करके प्रत्युपकारमें कोई उपहार नहीं चाहते। चतुर्थ गुण है--- आ्राप्ति, जीवको उन्हें खोजनेकी भ्रावश्यकता नहीं वें उसके शरीर और शरीरी दोनोंके क्षेत्रज बनकर उसके हृदयमे ही बेठे रहते हैं, नरकादिकोंसें भी कभी साथ नहीं छोड़ते

उपर्युक्त अ्रष्टगुणोंके श्रतिरिकत इन बृन्दावन-निक्रुज्ज-विह्मरी श्रीकृष्ण- भगवानमें सौत्दर्य-माधुर्य-लाबण्य आदि अतेकों व्यामोहक गुण हूँ, जितका अनुभव करके यह जीव भुक्ति-मुक्ति, सब भूल जाता है, और उसकी यही इच्छा होती है कि इस 'साँवरे सलोने मोरपंखवारेकी झोर नित्य निरन्तर निहारता ही रहे इन्हीं सौन्दर्यतागर माधुरयमूर्ति श्रीकृष्फा सारतम स्वरूप श्रीमती राधा है, जिनके महाप्रेम-रससिन्धके अवगाहनके लिये उन्हींकी करुणापाज्भ-पंक्तियोसे प्रेरित होकर ग्न्यकारने श्रीराधास्मप्तशती' मामक इस ग्रल्थकी रचना की है।

इस उज्ज्वल शुचि श्रद्भार रसपूर्ण रसप्रन्थमें ग्रनौकिक अप्राकृत दिव्य सरस मधुर श्रीनिकुञ्ज दम्पतीके लीलाविलासका निरूपण है तथा वहाँतक पहुँचनेकी कृपासयी सरस साधन-पद्धतिका भी तनिरूपण है। ऐसे रस- प्रस्थके विययमें यह कहना कि अमृक व्यक्ति इसका रचयिता है सगत नहीं क्योंकि यह रस कृपा-साध्य बस्तु हैँ निज

( ग)

स्वरूप है। इसकी अभिव्यक्ति केवल उनकी क्ृपासे होती है। किसी भी भावुक महानुभावके हृदयमें इस रत़का प्रकाश हो सकता है। अतणव ओी- युन्दावनेश्वरीकी कृपा दृष्टि से ही इस दासके, दीन हृदयमें श्रीराधासप्तशती ग्रस्थका प्रादुर्भाव हुआ है। इसके पाठ करनेंसे यश्यापि सारी कामनाएँ सिद्ध होती हैँ, तथापि इसका मुख्य फल,है--भ्री वृन्दावन-रख़का आस्वादन करते हुए श्रीवृन्दावनवासकी प्राप्ति

* इस प्रन्थका मुख्य प्रतिपाद्य विषय तो है श्रीराधा--अह प्रन्ध श्रीराघाके परत्वका प्रतिपादक है। प्रयोजन है--शओीवुन्दाबन वास, जिसके बिना श्षीराधा-रस-सुधाका आस्वथादन दुर्लभ है। अधिकारी है--श्रीराधा-प्रीतिरस- पिपासु, भुक्ति-मुक्ति-स्पृहा-रहित द्रुतचित्त चेतन

वैकुण्डवासिवी श्रीरमा, लक्ष्मी, सीता, रुक्मिणी, राधा, पराशक्ति, 'ह्वादिनी, पटुमहिषी, रासेइवरी, निकुञ्जविदह्यरिणी-यें सब राधस्वकूपके ही वाचक नाम- रूप हैं। तात्विक दृष्टिसे इतमे कोई भेद नहीं है तथापि लीला और रसकी दृष्टिस रसिकजन भेद मानते हैं

श्रीराधाके पावत नामकी लोग वेदोंमें और भागवत झादि पुराणोंमें खोज करते हैं। उनसे हमारा यह कहता है कि जिन ग्रन्थों श्रीराधा-नाम नहीं हैं; वे ग्रन्थ संसारियोंके लिये त्रैगुण्यविषयक बताये गये है। उनमे श्रीराधा-तामका होना ही उचित है। श्लीराधा तो अत्यन्त अलक्ष्य अनिर्बंचनीय महाप्रेमरसकी घनीभूत भूति है; उसको सर्वत्र सभी ग्रन्थोमें हम प्रत्यक्ष पा सके, ऐसा आग्रह नहीं होना चाहिये। जैसे मणि-मुक्तादि सर्वत्र सुलभ नही, वे तो महानगरोंके जौहरी- वाजा रमें ही मिलते हँ--वहाँ भी गुप्तरूपमे रकखे रहते है, केवल अधिकारियोकी ही उनके दर्शन होते हँ--वैसे ही वेदों-पुरागोंमें श्रीराधाक! गुप्तरूपसे श्षंकेत मात्र 'भिलता है, कहीं-कही विस्तार भी है। श्रीभागवतर्में दो जगह संकेत झ्राता है--एक द्वितीय स्कन्धमे श्रीशुककी स्तुतिर्नें “निरस्तसाम्यातिशयेव राबसा तथा दूसरा श्रीरासबंचाध्यायीमें-- ग्रनयाराधितों नून॑ भगवान्‌ हारिरीश्वर: |” ऐसी अनुभुत्ति है कि श्रीशुकदेवजीने श्रीराघा-तामका भागदतसें इसलिये रुपप्ट- वर्णन नहीं किया कि उन्हें श्रीराधा-तामोच्चारणभाजसे मूर्च्छा हो जाती थी मृच्छी होजानेपर कथा बंद हो जाती और श्रीपरीक्षित॒का महान्‌ अहित हो जाता

शीराधानाममातेण सूर्चा बाण्मातिकी भवेत्‌ चोच्चारितमतः स्पष्ट परीक्षिद्धितकृन्मुलि: ॥।

वेढोंमें विज्ञाखा' सक्षत्रकों 'राधा' कहा गया है उसके झआगेके तक्षत्रका सलाम अनुराधा है श्रीरावाका विश्ञाखा नक्षत्रमें जम हुआ हैं श्रत उनका राधा नाम

(ढ )

पड़ा यह प्रकट ग्रवतार-लीलाकी बात है भित्य लीलामें तो जन्म ही नहीं होता, वहाँ नक्षत्रके नामकी कठ्पना ही नहीं बनती वहाँ तो ऋगवेदके राधिकोपनिषद्के क्र्थंकोीं लेता पड़ेय) “जिसकी-श्रीकृष्ण सदा आराधना करते हैं, वह है राधा और जो श्रीकृष्णकी आराधना करती है वह है “राधिका | ये दो अर्थ उपनिषद्ने स्वीकार किये हैं--- क्ृष्णेन श्राराध्यते इत्ति- कृष्ण राधा, समाराधयति सदेति राधिका ।*

परम दयालु वेदोंने मायागुणबद्ध संसारी चेतनोंको शिक्षा देकर महान्‌ उपकार किया है। इसका अभिप्राय यह नहीं है कि बेदोंने परमात्मा सथा उसके गुण- वेभव-शक्ति झ्ादिका वर्णन नही किया, गुणातीत वस्तुकी चर्चा ही नहीं की है। बेदोंका तो मुख्य प्रतिपाथ विषय श्रीभगवान्‌ है--“वेदेशच सर्वरहमेव बेच्यो: ।/ श्रीसगवानसे सम्बन्ध रखनेवाली सभी वस्तुओंका वर्णन केदोंमें हैं। तो फिर श्रीभगवान्‌की स्वरूपभूता अभिन्ना अपृथकसिद्धा क्लादिती शवित' श्रीरावा बणित हुए बिना कहाँ रह सकती हैं वेदोमे 'झक्ति' 'परा' भ्रादि नामोसे राधाका वर्णन है, “परास्य शव्तिविविधत श्रुयते ।” राधा ही श्रीदेवी, लक्ष्मी देवी हैं। बेदमें श्रीसूक्‍त, “लक्ष्मीसूकत प्रसिद्ध है औराधा भयवान्‌की चमत्कारमयी झवित हैं, चमत्कारकों ही सब नमस्कार करते है अधवा श्रीकृष्णकी श्रीराधा आत्मा हैं, उतके साथ रमण करनेसे श्रीकृष्णकी आत्पाराम' कहते हैं। आत्मा-तु राविक्रा' तस्थ तयेव रमणा- दूसो। आत्माराम इति प्रोकत: रसरीतिविचक्षण:।” जहाँ कहीं वेद-पुराण आदियमें श्रीमगवानूकी महिमाका वर्णन है, वहू सब झक्तिका विल्लास है; क्षीजीका ही वैभव है। अतएवं महंषि वाल्मीकिये 'कृत्स्त॑ रामायणं काव्य सीतायाइचरितं महत्‌” ऐसा कथन किया है-न्यह सम्पूर्ण विशाल रामायण- महाकराव्य केवल सीता-चरित्र है--म्षीताके वैभवका प्रतियादक है।

श्षीजीका वैभव अनन्यसिद्ध है और श्रीभमगवान्‌का वैभव श्रीसम्बन्धजन्य है--- यहु बात श्रीरामायणमें स्पष्ट है। अप्रमेयं हि तलेजों यस्थ सा जनकात्मजा ।” भ्र्यात्‌ जिसकी वह अद्भुत विलक्षण-रूप-गुणशालिनी जनककुंमारी पत्नी है, उसके तेजकी कोई तुलना नहीं कर सकता “भीतो भव हनूमतः श्रीजीके मुखसे यह वचन निकलते ही श्रीहनुमान्‌की पूँछकी अग्लिज्वाला शीतल हो गयी। इस दूर्ध धटनाको देखकर हीवो गर्जना करते हुए बोले-- जयत्यतिबलो रामों लक्ष्मणइच महावल: इत्यादि अनेक उदाहरणोसे श्रीजीका अनन्यसिद्ध वैभव स्पष्ट है

श्रीराघासप्तञजञती में इसी वैभवका प्रेम-रस-विलासके रूपमें विस्तारसे वर्णन किया गया है। श्रीभगवानकी पराशक्तिस्वरूपा श्रीराधाकी ग्रंदाभूता ह्वादिनी शक्तिकी मम्रतामयी दिव्यकिरण जो पवित्र सात्विक कोमल चित्तवाले भ्रधिकारी चेततके हृदयमें प्रतिविम्बित होती है वही प्रभ है. इसी प्रेमके

(घ)

सम्बन्ध श्रीराधा' कृष्णी परम अआस्वाद्य निज प्रेम-रस-माघुरीका आस्वादन इस प्रेमी वेतनको भी प्राप्त हो जाता है--ठीक उसी प्रकार, जेते अपने सम्बन्धीके सुख-दूःख अपनेकी भी सम्बन्धबलसे प्राप्त होते है,अ्थवा जेसे बगीचेकी जलाशय का जल नलोंके सम्बन्ध द्वारा सारे वगीचेकी क्यारियोमे पहुँच जाता है।

प्रेम-ईश्वरके अतिरिवत ईइबरीय विभूतिरूप चेतववर्गसे भी किया जा सकता है!

प्रेमका चर्वण ही रस है। प्रेमके चारों ओर रसका महासमुद्र बहता है। परंतु भगवद्धिन्न पात्रोंसें प्राकृत दोषोंका सम्मिश्रण है, श्रतः साधकोंकों 'पतनका' भय है

यद्यपि प्राकृत कवियोंने आर्य चारुदतत, वसन्तसेना वेश्या आदि पात्रोंकी लेकर श्द्धार रसका वर्णव किया है, तथापि इस पद्धतिको दोषजतक समझकर साहित्यदर्पणकारने उत्तमप्रकृतिप्रायो रसः शृज़जार इष्यते” इस कारिकाके हारा उसका खण्डन किया है और यह बताया है कि उत्तम प्रकृतिवाले ही इस रसके पात्र होने चाहिये।

वेदके रसकाण्डमें “रसो वैस:-इस श्रतिहारा रसको ईह्वरका स्वरूप बताया है। ब्रह्म, परमात्मा, भगवान्‌'-ये सब रसके पर्यायवाचक नाम हैं ! प्रेम ही रस है। नारदके भक्तिसूत ५४में प्रेमको प्राकृत गुण तथा कामसे गन्ध-रहित बताया है-- गुणरहितं कामनारहितं प्रतिक्षणवर्धभानभविच्छित्न सूक्मतरमनुभवरूपम्‌”' अपनी इच्द्रियोकी चरितार्थ करनेकी इच्छाका नाभ काम' है। इस कामके स्थानपर लोग प्रेम, स्नेह आदि शब्दोंका प्रयोग करते हैँ यह बहुत बड़ी भूल है। प्रेमी अपने लिये कुछ भी नहीं चाहता, वह अपने प्रेमास्पदके लिये अपना सब कुछ अपण कर देता है---इतना! ही नहीं, वह उसका अनन्याह भोग्य बन जाता है। प्रेमीकी अपने प्रेमास्पदमें शील-हूप-सौंन्दर्य झ्रादि गुणोंकी अपेक्षा नहीं होती गुणकृत प्रीति तो कामबृत्ति है, उसे प्रेम नहीं कह सकते वास्तबमें इस प्राकृत जगत्‌मे कामादि दोषोके कारण इस चेतनको प्रेमरसका यथार्थ अनुभव हो ही नहीं पाता इसके लिये दिव्य भावमय शरीर श्लौर दिव्यधाम-चिंदानन्दमगी तज्िपादविभूति चाहिये अतएव 'श्रीराधासप्तशती” में श्रीवन्दावनस्थ नित्य निकुझ्जरूप परमपद' त्रिपाद विभूतिकी प्राप्तिकी विशेषद्षप से आकाइक्षा को गयी है। जहाँ श्रीमगवान्‌की स्वरूप-भूतारूप लीलागुण-विभूतियोंका सदा अनुभव हो, उसे परमपद कहते हैं--- “तद्विष्णो: परम पद सदा परश्यन्ति सूरयः

प्राकृत जगतमें हम प्रेमकी---रसकी उलदी-सीथी केबल बातें कर लेते है और मनमाने ग्रन्थ भी लिख डालते हैं जिससे केवल हमारा स्वार्थमय चलने

(न)

लगता है। गोपीजनोंकी तरह “जित देखूँ तित स्थाममयी है“---यह झर्वात्मिमावकी अवस्था नहीं हो पाती

परतु समय-समयपर रुसकी रीति-नीति सिखानेके लिये जो रसिकाचार्य पधारते हैं, उतकी सिद्धावस्था होती है। हाथीके दाँतोंकी तरह सदा उनकी दो अवस्थाएँ होती हँ--स्वरूपावेश और बाह्य आवेश्ञ व्यवहार मात्रके लिये उनकी बाह्य अवस्था होती हैं। वे वस्तुतः इस जगत्‌में दीखते हुए भी धामगे ही नित्य निवास करते हैं। स्वरूपावेशकी अवस्थासे न' कोई पुरुष है रची, ब्राह्मण-क्षत्रिय श्रादि वर्ण हैं। केवल शुद्ध-बुद्ध-सुक्तस्वरूप आत्मा है, बह भी परमात्माका अनन्याह भोग्य दास है- दासभूताः स्वतः सर्वेह्यात्माल: परमा- त्मन:। नान्यथा लक्षणं तेषां बन्धे मोक्षे विद्यते ।/ बद्ध-मुक्त सभी झ्रवस्थाओ- में--यह चेतन श्रीभगवान्‌का दास है। इसी स्वरूपावेशमें पञ्चम्‌ पुरुषार्थरूप खुज्रार रसका आध्वादन होता है। बाह्य आवेशरम्ें भ्रज्ञानवश चेतन अपनेको पुरुष, स्त्री, ब्राह्मण, क्षत्रिय आदि मानता है। उस समय उसे धर्म, अर्थ, काम-- इन तीन पुरुषार्थोका अधिकार होता है, आज्भार रसके ऋनुशीलतकी योग्यता नही होती वह हृष्दोग-निवारिणी प्रेमरस विरुतारिणी श्रीराधा-कृष्णकी श्रुति उज्ज्वल श्वद्धार रसकी लीलाओंसे सदा वश्नचित रहता है। उसे दुर्भाग्यवज ये लीलाएँ काममयी प्रतीत होती हैं वह दूसरोंसे भी दुराग्रह करता है कि वे शज्भार रसकी लोलाओंको सुनें

प्राय: इस प्राकृत जगत्‌मे चेतनोंको अधिकतर बाह्य आवेश' सद्य रहता है। भाग्यवज् यदि वेतनकी रसिक गुरुदेव मिल जायें तथा रसमयी उपासना एवं मन्त्र प्राप्त हो जायें और रसिकोका सदा सद्भ मिलता रहें तो स्वरूपावेश' हो सकता है।

अतः सच्चे सदाचारी रस-जिन्नासुश्रोंसे प्रार्थना है कि'वे श्रद्धापूर्वक इस “श्रीराघासप्तशती का अ्रध्ययत्त करेंगे तो अवश्य इस दिव्य परम पवित्र ऋद्भार रसके मर्मज्ञ रसिक बन जायेंगे ; क्‍योंकि इस अश्रन्थमें इस दिंव्य श्ज्भाररस- सम्बन्धी अपेक्षित सभी बातें संक्षेप्में गयी है।

इस श्रीराधासप्तश्षती ग्रस्थके संस्कृत इलोकोंका पूरा श्रनुवाद पण्डित श्रीरास- नारायण दत्तजी शास्त्री राम ने वड़ी ही सुललित तथा सरल भाषामें कर दिया है। इससे इस ग्रन्थके समझनेमें सभीको वड़ी सुविधा हो गयी है। इस पवित्र कार्मके लिये ग्रन्यकार उनका बड़ा क्ृतज्ञ है।

वागीश शाख्री वुन्दाबन

है ॥/00|॥॥/ २! 2 “4, 5. बा? हे व्च्च 5 “म हे

श्री राधा-कृष्णास्या नमः

आअश प्रशमोी घ्याय!

बरसाने में प्रवेश

कीरत्तियशोदयोतिजमहादात्सल्यसिन्धूडूव॑ मामृतसिन्धुसग्नसनिश दिव्यादभुतक्रोडनस्‌ इचसरयेसमय॑ महारससय गोप्येकभाव/श्रय राध्यं हृदि पीतनीलकसलहन्ध महामोहनम्‌ ॥१॥) दा और यक्षोदा--इन दोनों देवियोंके अपने-अपने वात्सल्य- हुए है, निरन्तर अपने ही पारस्परिक प्रेस-मुधा-सागरमें निमर्त अद्भुत लीलाड्रोंके झ्रालम्बन है, जिनका स्वरूप सर्वाइ्चर्यमय, महामोहन है, जो गोपीभावमयी मवबुर उपासनाके एकमात्र भक्‍तजन अपने हृदयमें ही जिनकी सुखपूर्वक आराधना करते गैल कमलों (के सदृद् कान्तिवाले प्रिया-प्रियतम ) की मैं वन्दना

्‌ श्वीराधा सप्तशती

श्रीसुकण्ठ उवाच

बहत्सानुकर्था पुण्यां इ्थाभावयामकृपामयीस्‌ सर्वात्मतर्षणी सित्र. श्रावयाद्यानुकस्पया ।॥२॥॥

श्रीसुकण्ठजी बोलें---

मित्र | श्राज कृपा करके श्रीद्यामा-इसामकी करुणासे भरी हुई श्री बरसानेकी कोई ऐसी पृण्यकथा सुना, जो सभी आत्माओों (आत्मा, मत, और इन्द्रियों) को तृप्त करनेवाली हो ॥२॥१

श्रीमधुकण्ठ उवाच सखे शरण कथां पुण्यां सधुरामृतवर्षिणीम्‌ वसनन्‍्तदबो विप्रोड्भूत कद्िचिच्छीजाह्न॒वीतटे ॥॥३।। कदाचितस्थ वासाथ श्रीबुन्दाविपिते ब्जे। समुत्कण्ठा समुत्यज्ञा सहसा मानसेंडनथे ।(४।।

श्रीमधुकण्ठजी ने कहा-- सखे ! (मैं तुमसे) मधुर अमृतकी वर्षा करनेवाली एक पुण्यमयी कथा (कहता हूँ, उसे) तुम सुनो श्रीगद्भाजीके तटपर वसन्तदेव नामसे प्रसिद्ध एक ब्राह्मण थे। उनके निर्मेल मनमें किसी समय एकाएक श्रीव्नजधाम एवं श्रीवृन्दावनमें वास करनेकी बड़ी प्रबल उत्कण्ठा उत्पन्न हुई |।३-४।

सो5तीव विस्मितों बिप्र: श्रीकृष्णकृतधी: सुधीः विचारसाचरत्‌ कस्मादाविर्भूता रुचिमेंस ॥॥५॥! जिसका चित्त सदा श्रीकृष्णके ही जिन्तनमें लगा रहता था, बहू सुन्दर बुद्धिवाला ब्राह्मण प्रत्यन्त विस्मित होकर सोचने लगा कि मुझमें ऐसी इच्छा अकस्मात्‌ कैसे उत्पन्न हो गयी ? ।५॥। ेृ व्रजे वृन्दावन वापि ब्रह्माद्चरपि दुलंभे। वासे मनोरथो5यं में स्वप्नमायेव लक्ष्यते ॥६॥। श्रीव्रज अ्रथवा श्रीवृत्दाबन तो ब्रह्मा आदि देवताश्रोंके लिये भी दुर्लभ है, उसमें वास करनेके निमिस यह मेरा मनोरथ स्वप्न और मायाके समान लक्षित

होता है ॥॥६।।

प्रथमो5्ध्याय 7

कोटिजस्मसमुत्थेन. पुष्येनापि सुदुलभा

वुन्दाठवी महापृष्या शधासाचबबहलभा ।।७१)

श्रीराधा-मांधवकी परम प्यारी महापुण्यसयी श्रीवुन्दावन-स्थली कोडि जन्मोंमें उपाजित पुण्योंसे भी अत्यन्त दुर्लभ है! ।।७!।

एवं चिस्तदतस्तस्थ व्यतीत माससप्तकम्‌ हिगुणा तदुत्कण्ठा जाता बुन्दाबनं प्रति ।॥८१।

इस प्रकार चिन्ता करते-करते ब्राह्मणके सात मास बीत गये और वृन्दावनके लिये उनके मनमें दूनों उत्कण्ठा हो गयी ।।<॥।

प्रत्यहूं स्वेष्टदेवस्प गोपालस्थ पदाब्जयोः प्रार्थयन्नणि प्राप सानन्‍त्वनां वा सदुत्तरम ॥॥8॥

इसके लिये वे प्रतिदिन अपने इष्टदेव श्रीगोपालके पादपकोंमें प्रार्थना करते थे; परंतु उन्हें कोई सान्त्वना या संतोषजनक उत्तर नहीं मित्रा ।६।॥

तदा चिन्तापरीतात्मा गड़ातटमुपायत: बन्दाटवीनिवासायथ किसत्र.. क्रियतर्शमिति १३१०॥॥ तब वे ब्राह्मण (घर छोड़कर) गद्भाजीके तटपर आये और विचार करने लगे कि 'मुझे श्रीवृन्दाबनकी प्राप्तिके लिये इस समय कौत-सा साधन करना बाहिये ”' इस चिन्‍्तासे मे श्षत्यन्त व्याकुल हो गये |॥१०॥।

गोपाललीला काप्येषा प्रलुब्ध सानसं थया। एवं खित्तयता तेच श्रीम:द्भायवर्त तदा १११ पठता दिवसा नोता: गोपालग्रियकास्यथा शद्भातीरक्ृतावासान्‌ विरकक्‍्तान्‌ साधुसत्तमान्‌ ॥१२।) प्रणिपत्यातिदेन्पेल पप्रच्छात्ममनोरथम्‌ कि करोपि यतो वृुन्दाटबीवासमवाप्नुयास्‌ ॥१३।॥ यह तो कोई श्रीगोपालकी लीला है, जिसने मेरे भनमें श्रीवृन्दावनके' लिये प्रबल लोभ उत्पन्न कर विया है। यह सोचकर उन्होंने गोपालकी प्रसन्नताके लिये श्रीभागवतका पाठ झारम्भ कर दिया। पाठ करते हुए जब उन्हें कई दिन बीत गये, तब (वे अधीर होकर) एक दिन श्रीगज्भातीरवासी बडे-बडे विरकक्‍्त

ध् श्रीराघधः सप्तदती

साधुओंके पास गये भौर अतिदीन भावसे प्रणाम करके उन्होंने उनसे अपने मनोरथ (की सफलता) के लिये प्रइत किया--महात्माओं ! मुझे कौन-सा साधन करना चाहिये, जिससे श्रीवुन्दावनवासकी प्राप्ति हो जाय ? ॥११, १२, १३।'

भवन्त: दरणं सर्वे सज्जतों चौरिवार्णबे। उपाय. क्ृपयामोध॑ प्रबृतामोघददनाः ॥॥१४॥। जैसे समुद्वमें डबनेवाले मनुष्यकों बचानेके लिये नौका ही सबसे बड़ा सह्ृरा' है, उसी प्रकार आप सब लोग (इस भवसागरसे उदारनेके लिगे) मेरे महान आश्रय हैं। (मुझ शरणागतपर) कृपा करके कोई अमोघ (अभ्रवश्थ फल देने

बाला) उपाय बतायें ; क्योंकि आप-जैसे महात्माओ्रोंका दर्शन कभी निरथेक नहीं होता (उससे मनोवाड्छित फलकी सिद्धि अवश्य होती है) ।॥॥१४।॥

सर्वेष्पि तमिदं प्रोचुगू हे तिष्ठ गृहाश्रमी

भ्रज तत्रव गोपाल पालयस्व गृहाश्रमस्‌ ॥१५॥।

वुन्दाठव्यास्तु गेहे त्व॑ भावनां कुरु स्वंदा।

तेषां बचनमाकर्ण्य कर्णशूलकरं द्विजः ॥॥१६।।

पाइवतो5पासरत्तेषां मृगो व्याधभयादिव।

ततो ययो कर्णवासं तोर्थे सिद्धनिषेवितम्‌ (॥१७॥॥

(यह मुनकर) सभी महात्मा उसे यह कहते लगे--अरे ! तू गृहस्थ है,

घरमें ही रहकर गृहाक्षमका पालन तथा गोपालका भजन किया कर और अपने धरमें ही वृन्दावत्की नित्य भावना कर लिया कुर।' ब्राह्मणकों उनकी यह बात कारनोंमें शूलके समान भ्रसह्य पीड़ा देनेवाली लगी। उसे सुनकर ब्याधोके भयसे डरे हुए मृगके समान वे उन सबके पाससे भाग चले और सिद्ध-सेवित (परम पावन) कर्णवास नामक तीर्थमें जा पहुँचे ॥१ ५-१७॥।

तत्र साधून्‌ विरक्ताशच भवतातन दृष्ट्वा मु थयों तेंषाँ परमाराध्यं गुर शंकररूपिणन्‌ ॥१८॥ यतिराजमथाबोचप्िपत्य पदकंजयो: भगवन्मे. परोत्कण्ठा. बुन्दारण्यसुखाप्तये ॥॥१९॥। जाता तत्रेव वबासाय प्राणा व्याकुलिता यया। तत्ते श़रणमायातः क्रपयाऊञ्ञां प्रदेहि भें ॥२०।॥।

पग्रथमो5"याय

वहाँ साधुओं, विरक्तों, और भक्‍तोंकों देखकर वे (बहुत) प्रसन्न हुए। वहाँ उन सबके परमपुज्य गुरु शिवस्वरूप एक यतिराज विराजमान थे। उनके श्रीचरणोंमें प्रणाम करके ब्राह्मण कहने लगे--भगवन्‌ ! मेरे मनसें श्रीवृन्दा- दन-बास-जनित सुखकी प्राप्तिके लिये बड़ी उत्कण्ठा उत्पन्न हो गयी है, जिसने उसी वृन्दावनर्में निवास करनेके लिये मेरे प्राणोंको व्याकुल कर दिया है इसलिये में आपकी शरणमें आया हूँ। आप कृपा करके सुझे श्रीवुन्दावनमें जानेकी श्राज्ञा दे दीजिये ॥|१८, १६, २०॥। तेनापि सहसा प्रोक्‍त तत्र बासोडतिदुष्कर:। ये दोषदर्शिनो धा४्ति वासादपि पतन्ति ते ॥२१५१॥ यह सुनकर यतिराजने भी सहसा यही उत्तर दिया कि--भश्रीवुन्दावनमें वास करता बहुत कठिन कार्य है। धासमें रहनेपर भी जो उसके दोष देखने लगते है, थे पतित हो जाते है! ॥॥२१॥ परं बिप्रप्नतोषाय पच्यभ्ेंक जगो सुदा। शाकपत्रादने तुष्ठा ये वृन्दावनवासिनः ।॥२२॥ तेषां भाग्यमहो दृष्ट्वा स्पृहयान्ति ह्ाजादय:ः। श्रुत्वतद्‌ गन्तुकामाय वुन्दारष्यं हिजायथ सः॥३२३॥। एलालबड्भपुग्थादिप्रसादं प्रददों.. स्वयस्‌ त्वराबानथ विश्रोष्सों सिशायासेव प्रस्थितः ।॥२४।॥ परंतु ब्लाह्मणके संतोषार्थ उन्होंने (बड़े) हषसे एक इलोकका गान' किया, जिसका भाव यह है-- जो साग-पातके आाहारले संतुष्ट रहते हुए श्रीवुन्दावनमें वास करते है, उतके आइचर्संसय भाग्यको देखकर ब्रह्मा आदि देवेन्द्र भी ललचाते है। यह सुनकर ब्राह्मणके मतमें श्रीव॒न्दावनमें जानेकी इच्छा जाग उठी तब श्रीयतिराजने स्वयं प्रसादके रूपमें उन्हें इलायची, लौंग और पुगीफल (सुपारी) आदि दिये। ब्राह्मण वहाँ जानेके लिये उतावले हो उठे थे। अतः उन्होंने रात्रिसें ही प्रस्थान कर दिया ॥२२, २३, २४।। याचे ओनबन्‍्दगोपाल स्वयं व॒ुन्दावनस्थितिस्‌ एवं संकल्प्यप. वेगेन तमेबानुस्मरन्ययों ॥२५॥। वे मन-ही-मत्त यह सकलप करके कि अब स्वयं